फर्रुखाबाद। हथियापुर बाजार में रहने वाले वृद्ध रामसेवक वर्मा का लहूलुहान शव आज सुबह मकान के पीछे देखे

जाने पर इलाके में सनसनी फैल गई। इलाके के सैकड़ों लोग व्यापारी देखकर को देखने एवं यह जानकारी करने पहुंचे कि भले व्यक्ति की किसी ने क्यों हत्या कर दी है। 70 वर्षीय रामसेवक की हत्या फिलहाल पहेली बनी है। थाना मऊदरवाजा के ग्राम बैजू नगला के मूल निवासी रामसेवक वर्मा की पत्नी की 20 वर्ष पूर्व मौत हो गई थी।

तभी उन्होंने हथियापुर में सरल दुबे पेट्रोल पंप वाली गली में विशाल भवन बनवा कर विकास टेंट हाउस खोला है। रामसेवक के तीनों पुत्र गांव में रहते हैं टेंट हाउस में अकेले रहने वाले रामसेवक बीती रात छत पर लेटे थे। प्रयास करके लोग किसी तरह छत पर पहुंच गए जिन्होंने लाठी डंडा एवं सरिया से जबरदस्त प्रहार करके रामसेवक को मार डाला। उनके शव को भवन के पीछे खाली जगह में फेंक कर चले गये।

पड़ोस में रहने वाला व्यक्ति ने आज सुबह रामसेवक के आवास का गेट खटखटाया काफी देर तक गेट न खुलने पर उसने रामसेवक के बेटे अवनीश को जानकारी दी। अवधेश ने पिता को फोन लगाया घंटी जाने के बावजूद फोन नहीं उठा तब अवनीश अनहोनी घटना की आशंका में तुरंत ही मकान पर पहुंचा। उसने भी काफी देर गेट खुलवाने के लिए पिता को आवाजें लगाएं हताश हो जाने पर अवनीश मकान के पीछे से आवाज लगाने के लिए गया।

वहां पिता के लहूलुहान शव को देख कर अवनीश को गहरा सदमा लगा। सीओ, थाना पुलिस एवं एसओजी टीम ने मामले की जांच पड़ताल की फॉरेंसिक टीम ने रामसेवक बर्मा की हत्या के साक्ष्य जुटाए। बताया गया की पीट पीट कर रामसेवक के दोनों पैर हाथ एवं मुंह की हड्डी तोडी गई। लोगों का कहना है कि भले इंसान सेवक की किसी से कोई रंजिश नहीं थी। सभी लोग रामसेवक की काफी क्रूरता से की गई हत्या की वजह जानना चाहते हैं।

Share it please

Leave a Reply

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: