भगवान के सामने नहीं बोलना चाहिए झूठ-अखिलेश यादव।

Spread the love

*काशी में प्रधानमंत्री के दौरे पर अखिलेश का तंज, बोले- भगवान के सामने नहीं बोलना चाहिए झूठ*
काशी विश्वनाथ धाम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तंज कसा है और भाजपा पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि भाजपा जनता के सामने झूठ बोल रही है लेकिन भगवान के सामने झूठ नहीं बोलना चाहिए। पूरे प्रदेश में विकास के कोई कार्य नहीं किए गए हैं। इस बार जनता ने मन बना लिया है कि वह भाजपा की सरकार को प्रदेश से हटाने जा रही है। इस सरकार में किसान, नौजवान, शिक्षक, व्यापारी सहित हर वर्ग के लोग परेशान हैं।इटावा के सैफई में आए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काशी दौरे को लेकर तंज कसा कि यह अच्छी बात है कि वो जगह रहने वाली है,आखिरी समय में बनारस में ही रहने जाया जाता है। अखिलेश यादव ने कहा कि खाद के लिए किसान लाइन में लगा है, सरकार जवाब नहीं दे पा रही है। किसान को खाद व बिजली सस्ती चाहिए सरकार उसे नहीं दे पा रही है। जिस तरह से राशन का वितरण हो रहा है क्या पर्याप्त न्यूट्रीशियन गरीब को मिल रहा है। गरीबों को घी व दूध का इंतजाम क्यों नहीं किया गया। सरसों का तेल आज लोग महंगा खरीद रहे हैं।मुख्यमंत्री की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने प्रदेश में अपने ही लोगों को पैदल कर दिया है।उन्होंने नाम लिए बगैर कहा कि एक नेता को पैदल कर दिया गया तो दूसरे को स्टूल पर बैठा दिया गया है। जो कृषि कानून पहले वापस होने चाहिए थे वो अब लिए गए, वरना सात सौ किसानों की जान नहीं जाती। इतना बड़ा आंदोलन किसानों को नहीं करना पड़ता।उन्होंने कहा कि इस सरकार में किसानों के हकों का हनन हो रहा है। उन्होंने कहा कि विकास के कार्य सपा ने ही कराए। लखनऊ के डीजीपी हेडक्वार्टर को उनकी सरकार के कार्यकाल में ही बनवाया गया था। 112 पुलिस सेवा उन्होंने ही शुरू की थी। इटावा में लायन सफारी को आज तक शुरू नहीं किया गया है। जेल का उदघाटन तो हो गया लेकिन उसे अभी तक चालू नहीं किया जा सका है। इटावा में सरकार ने भेदभाव किया और यहां के सारे विकास कार्य रोक दिए गए। इटावा के वर्ड फेस्टिवल को सरकार ने रोक दिया। एटा में बिजली के कारखाने का काम आज तक पूरा नहीं किया गया। सैफई के क्रिकेट स्टेडियम की हालत बदतर कर दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *